Advertisements

Rudrapur riots:Quran Desecretion led to 4 Death

3 Oct

NVONews.Com

t,

RAMPUR: Four people have been killed in communal violence that began in Rudrapur, Uttrakhand yesterday. The violence began when Muslims protested against sacrilege of Quran. Reports suggest that tens of Muslim shops have been torched by mobs trying to destroy Muslim business establishments in the city.

The deaths were caused by indiscriminate police firing on Muslims who were protesting the desecration of the Muslim’s holy book, the Quran. Locals say the violence was preplanned and that this was not the first instance of desecration of the Quran. It was second such instance in a few weeks and people came out to protest against the police inaction in this regard.

Mohammad Nasir, a resident of Rudrapur was reported by India’s leading Urdu newspaper Rashtriya Sahara as saying, “the situation here is very critical. Arsonists are torching Muslim shops and houses one by one. They seem to have details of Muslim business establishments and shops. The condition is deteriorating rapidly. No action has been taken on desecration of the Holy Quran and when Muslims protested, police fired on them. Last month there was another incident when Quran was put on fire after putting an animal’s meat on it. So far five Muslims have been killed and more than three hundred people are still stuck inside the Jama Masjid here.”

Another Rudrapur resident Zamir Khan was quoted by Sahara as saying, “the desecration of the holy book was well planned. Last morning Muslims took out a procession to protest against it under the leadership of Barelvi leader Maulana Zahid Raza Khan. Muslims who were provoked started pelting stone. The police fired indiscriminately against them. Rioters seem to be everywhere. They are attacking Muslim shops and houses in large numbers and police are nowhere visible.

Meanwhile curfew has been imposed on the city and police say condition is under control.

Industrial production is likely to be affected tomorrow as a majority of factory workers live in Rudrapur town which is under curfew, said Udhamsingh Nagar District Magistrate B V R Purushottam.

“The curfew has been clamped to deal with the situation in Rudrapur town where four to five shops and scores of vehicles have been torched,” said Purushotam said.

District administration has confirmed two deaths and the DM said they are trying to verify if there were any more deaths.

सांप्रदायिक ¨हसा में जला रुद्रपुर
रुद्रपुर, जागरण कार्यालय : तराई का शांत शहर रुद्रपुर गांधी जयंती के दिन दो समुदायों के बीच हुई हिंसा की आग में जल उठा। धार्मिक ग्रंथ की कथित बेअदबी पर एक समुदाय के लोग भड़क उठे। दंगे में तीन लोगों की मौत हो गई, जबकि पुलिस कर्मियों समेत 60 जख्मी हो गए। उपद्रवियों ने इंदिरा चौक पर जाम लगाकर पांच दर्जन से अधिक वाहनों को आग के हवाले कर दिया, जबकि आधा दर्जन बसें क्षतिग्रस्त कर दी गई। दो दर्जन से अधिक दुकानें फूंक दी गई। स्थिति को काबू करने के लिए पुलिस ने कई राउंड हवाई फायरिंग की। पथराव में मौके पर पहुंचे एसएसपी, एडीएम व एसडीएम को भी चोटें आई हैं। दंगे वाले क्षेत्र में अनिश्चितकालीन कफ्र्यू लगा दिया गया। इसके बावजूद भदईपुरा क्षेत्र में देर रात तक फायरिंग होती रही। रुद्रपुर के भदईपुरा में रविवार सुबह किसी शरारती तत्व ने एक धार्मिक ग्रंथ को फाड़कर फेंक दिया। एक समुदाय के लोगों ने जब यह देखा तो वे भड़क उठे। कुछ देर बाद उपद्रवियों ने इंदिरा चौक पहुंच जाम लगाकर पथराव शुरू कर दिया। इससे आधा दर्जन बसें क्षतिग्रस्त हो गई। इस बीच एसएसपी गणेश सिंह मर्ताेलिया व एडीएम विजय चंद्र कौशल पुलिस बल व दंगा नियंत्रण वाहन के साथ मौके पर पहुंचे। पुलिस व प्रशासन के अफसरों ने तोड़फोड़ कर रहे लोगों को रोकने का प्रयास किया तो उपद्रवियों ने उन पर भी हमला बोल दिया। उपद्रवियों ने अफसरों के कपड़े तक फाड़ डाले। एसडीएम वीर सिंह बुदियाल को पुलिस ने किसी तरह बचाया। दंगाइयों ने दरोगा मनीष खत्री व सिपाही मनोज गोस्वामी को भी जिंदा जलाने का प्रयास किया। उपद्रवियों के तेवर देखकर पुलिस बैकफुट पर आ गई। दूसरी ओर उपद्रवियों ने आसपास के होटल, पेट्रोल पंप को भी नहीं बख्शा। नैनीताल रोड, सिब्बल सिनेमा, रोडवेज के आसपास की दुकानों में लूटपाट कर आग लगा दी। इस बीच इंदिरा चौक पर दूसरे समुदाय के लोग भी पहुंच गए। दोनों समुदाय के लोगों ने एक-दूसरे पर पथराव शुरू कर दिया। हालात बिगड़ते देख पुलिस ने हवाई फायरिंग शुरू कर दी। कोतवाली के पास दोनों पक्ष आमने-सामने हो गए। एक पक्ष के लोग सीरगोटिया की तरफ दुकानों की छतों पर थे, तो रम्पुरा वाले सड़क पर जमा हो गए थे। दोनों पक्षों के बीच जमकर पथराव हुआ। इस बीच हथगोले और तेजाब भरे बल्ब भी फेंके
सांप्रदायिक ¨हसा में जला रुद्रपुर
रुद्रपुर, जागरण कार्यालय : तराई का शांत शहर रुद्रपुर गांधी जयंती के दिन दो समुदायों के बीच हुई हिंसा की आग में जल उठा। धार्मिक ग्रंथ की कथित बेअदबी पर एक समुदाय के लोग भड़क उठे। दंगे में तीन लोगों की मौत हो गई, जबकि पुलिस कर्मियों समेत 60 जख्मी हो गए। उपद्रवियों ने इंदिरा चौक पर जाम लगाकर पांच दर्जन से अधिक वाहनों को आग के हवाले कर दिया, जबकि आधा दर्जन बसें क्षतिग्रस्त कर दी गई। दो दर्जन से अधिक दुकानें फूंक दी गई। स्थिति को काबू करने के लिए पुलिस ने कई राउंड हवाई फायरिंग की। पथराव में मौके पर पहुंचे एसएसपी, एडीएम व एसडीएम को भी चोटें आई हैं। दंगे वाले क्षेत्र में अनिश्चितकालीन कफ्र्यू लगा दिया गया। इसके बावजूद भदईपुरा क्षेत्र में देर रात तक फायरिंग होती रही। रुद्रपुर के भदईपुरा में रविवार सुबह किसी शरारती तत्व ने एक धार्मिक ग्रंथ को फाड़कर फेंक दिया। एक समुदाय के लोगों ने जब यह देखा तो वे भड़क उठे। कुछ देर बाद उपद्रवियों ने इंदिरा चौक पहुंच जाम लगाकर पथराव शुरू कर दिया। इससे आधा दर्जन बसें क्षतिग्रस्त हो गई। इस बीच एसएसपी गणेश सिंह मर्ताेलिया व एडीएम विजय चंद्र कौशल पुलिस बल व दंगा नियंत्रण वाहन के साथ मौके पर पहुंचे। पुलिस व प्रशासन के अफसरों ने तोड़फोड़ कर रहे लोगों को रोकने का प्रयास किया तो उपद्रवियों ने उन पर भी हमला बोल दिया। उपद्रवियों ने अफसरों के कपड़े तक फाड़ डाले। एसडीएम वीर सिंह बुदियाल को पुलिस ने किसी तरह बचाया। दंगाइयों ने दरोगा मनीष खत्री व सिपाही मनोज गोस्वामी को भी जिंदा जलाने का प्रयास किया। उपद्रवियों के तेवर देखकर पुलिस बैकफुट पर आ गई। दूसरी ओर उपद्रवियों ने आसपास के होटल, पेट्रोल पंप को भी नहीं बख्शा। नैनीताल रोड, सिब्बल सिनेमा, रोडवेज के आसपास की दुकानों में लूटपाट कर आग लगा दी। इस बीच इंदिरा चौक पर दूसरे समुदाय के लोग भी पहुंच गए। दोनों समुदाय के लोगों ने एक-दूसरे पर पथराव शुरू कर दिया। हालात बिगड़ते देख पुलिस ने हवाई फायरिंग शुरू कर दी। कोतवाली के पास दोनों पक्ष आमने-सामने हो गए। एक पक्ष के लोग सीरगोटिया की तरफ दुकानों की छतों पर थे, तो रम्पुरा वाले सड़क पर जमा हो गए थे। दोनों पक्षों के बीच जमकर पथराव हुआ। इस बीच हथगोले और तेजाब भरे बल्ब भी फेंके .जासं, हल्द्वानी: रुद्रपुर में मुसलमानों के पवित्र धर्म ग्रंथ की बेअदबी के आरोप को लेकर उपजी सांप्रदायिक हिंसा के बाद शहर में पुलिस-प्रशासन खासा अलर्ट हो गया। हिंसा भड़कने की सूचना पर धर्म विशेष के लोगों ने कोतवाली में प्रदर्शन किया। वहीं रुद्रपुर के लिए रवाना हो रहे अल्पसंख्यक आयोग के उपाध्यक्ष व सपा के कुमाऊं प्रभारी सहित करीब 150 लोगों को पुलिस ने रोक लिया, बाद में सभी को छोड़ दिया गया। रविवार को अहिंसा के पुजारी महात्मा गांधी जयंती के दिन रुद्रपुर में हुई हिंसा ने शहर में भी तनाव की स्थिति पैदा कर दी। घटना की प्रतिक्रिया स्वरूप यहां भी धर्म विशेष के लोग दोपहर में कोतवाली के समक्ष एकत्र हुए। जबकि सपा नेता अब्दुल मतीन सिद्दीकी व अल्पसंख्यक आयोग के उपाध्यक्ष मजहर नईम नवाब सहित दर्जनों लोग रुद्रपुर को रवाना हो गए। सूचना पर पुलिस के हाथ-पांव फूल गए और तत्काल पुलिस फोर्स ने टांडा बैरियर से पूर्व दोनों नेताओं एवं उनके समर्थकों को रोक लिया। सभी को पुलिस मंडी स्थित गेस्ट हाउस ले आई। यहां करीब 150 लोगों ने सांकेतिक गिरफ्तारी दी। बाद में सभी को निजी मुचलके पर छोड़ दिया गया। इससे पुलिस भी अलर्ट हो गई और रुद्रपुर की ओर जाने वाले मार्ग को टांडा व बरेली रोड की ओर से सील कर दिया गया। इधर कोतवाली व सभी चौकियों के प्रभारियों को अलग-अलग क्षेत्रों में स्थिति पर निगाह रखने को निर्देशित कर दिया गया। तनाव की आशंका के चलते अधिकांश लोग फोन पर घटना की जानकारी लेते रहे। जबकि रुद्रपुर की ओर रवाना होने वाले लोग वापस लौट गए। एलआईयू के अधिकारी व कर्मचारी भी दिनभर संवेदनशील क्षेत्रों में घूम-घूमकर टोह लेते रहे।

घायल के किच्छा में दम तोड़ने से माहौल गरमाया

Oct 02, 10:55 pm

जाका, किच्छा: रुद्रपुर में गोली लगने से घायल एक व्यक्ति का शव ग्राम सिरोली कलां में लाने से माहौल गर्मा गया। अफवाह फैल गई कि मरने वाला सिरोली का है। इस पर बड़ी संख्या में लोग ग्राम सिरोली में एकत्र हो गये। बाद में पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

रुद्रपुर में गोली लगने से घायल खेड़ा के दो लोगों को उपचार के लिए बरेली ले जाया जा रहा था। उनमें से अब्दुल रहमान पुत्र लईक मियां उम्र 50 वर्ष ने देवरिया के पास दम तोड़ दिया। इस पर उसके शव को ग्राम सिरोली कलां में परिजन ग्राम प्रधान के घर पर छोड़ घायल रिजवान 15 वर्ष को लेकर बरेली निकल गये। शव के ग्राम सिरोली कलां के व्यक्ति के मारे जाने की अफवाह चारों तरफ आग की तरह फैल गई। इस पर बड़ी संख्या में लोग ग्राम प्रधान के निवास पर एकत्र हो गये। सूचना मिलने पर एसएसआइ जसवंत सिंह भी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गये। पुलिस को देख लोग भड़क उठे। एसएसआइ ने बामुश्किल उनको शांत किया। तब तक मृतक के परिवार वाले भी वहां पर पहुंच गये। सबको समझा-बुझाकर पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए हल्द्वानी भेज दिया।

Oct 02, 10:09 pm

जागरण कार्यालय, गदरपुर: रुद्रपुर में धर्मग्रंथ के अपमान पर आक्रोशित लोग सड़क पर उतर आए। उन्होंने घटना की कड़ी निंदा की। बाद में व्यापार मंडल के सहयोग से बाजार बंद करा दिया तथा प्रदर्शन करते हुए थाने पहुंचे। लोगों ने मुख्यमंत्री के नाम का ज्ञापन एसडीएम को दिया, जिसमें दोषी लोगों की शीघ्र गिरफ्तारी की माग की गई।

रुद्रपुर में धर्मग्रंथ के अपमान पर रविवार को मुस्लिम नेता गुलाम गौस, डॉ. वली अहमद, मो. आलम, एडवोकेट सुभान अहमद, मास्टर मो. यूनुस आदि ने घटना की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए सभी वर्गो के लोगों से शांति बनाये रखने की अपील की। इससे पूर्व लोग तकिये वाली मस्जिद में एकत्र हुए। वहां से गूलरभोज मोड़ पर व्यापार मंडल अध्यक्ष अशोक छाबड़ा व अन्य लोगों के साथ शांति मार्च निकालते हुए बाजार बंद कराया। फिर सभी लोग थाने पहुंचे। वहां एसडीएम पीआर चौहान का घेराव कर मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन दिया। उसमें रुद्रपुर प्रकरण के आरोपियों की शीघ्र गिरफ्तारी की मांग की गई। उन्होंने पुलिस को 24 घंटे का अल्टीमेटम दिया। उनका कहना था कि यदि पुलिस ने 24 घंटे में आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं की तो वे सड़क पर उतरेंगे। उधर एसआइ नासिर हुसैन व मनमोहन रावत के नेतृत्व में पुलिस टीम ने नगर में शांति व्यवस्था कायम रखने के लिए फ्लैग मार्च किया। इस दौरान जुल्फिकार अली, संजीव अरोरा, नासिर हुसैन, लेखराज नागपाल, महेंद्र सुखीजा, सिद्धार्थ भुसरी, मौलाना कारी सईदुल हसन, शाहिद हुसैन, याकूब, नासिर हुसैन, सिराजुद्दीन, मो. जीशान, शफीक बाबा, मोहब्बे अली आदि थे।

जिला बार एसोसिएशन ने की सांप्रदायिक सौहार्द बनाये रखने की अपील

गदरपुर: इनसानियत व शांति के देवता गांधी जी की जयंती के मौके पर रुद्रपुर की घटना की जिला बार एसोसिएशन के उपाध्यक्ष सुबहान अहमद एडवोकेट ने कड़े शब्दों में निंदा करते हुए दोषियों की शीघ्र गिरफ्तारी की मांग की। उन्होंने क्षेत्र के सभी वर्गो से अमन-चैन व शांति बनाये रखने की अपील की। उन्होंने कहा कि कुछ अराजक तत्व क्षेत्र के अमन-चैन के माहौल को खराब करने का प्रयास कर रहे हैं। इसको किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। उन्होंने प्रशासन से भी अपील की कि ऐसे लोगों को चिह्नित कर उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाये, ताकि भविष्य में ऐसी घटना की पुनरावृत्ति न हो सके।

All India Ulema Mashaikh Board and MSO have expressed grave Concern on th incident and have decided to send their delegations to the city to access the situation. The bodies have demanded safety and security of the Muslims and 25 lac compensation to the families of  victims

Advertisements

6 Responses to “Rudrapur riots:Quran Desecretion led to 4 Death”

  1. Sapna Sharma October 3, 2011 at 10:51 pm #

    MUSLIMS ARE SPREADING TERRORISM EVERYWHERE… YOU ARE KILLING INNOCENT PEOPLE AND ANIMAL… ISLAM IS THE RELIGION OF *****… YOU KNOW JUST VIOLENCE BLOOD BLEEDING NOTHING ELSE…

    • Shahnawaz warsi October 4, 2011 at 2:33 pm #

      The comments shows how much Communal u are????
      first Be a Human being.

      What do u know about Muslims.
      Is descretion of their Holy book and after it killing them is Justified in ur religion?

    • MUBARIK October 5, 2011 at 5:00 pm #

      ISLAM :———MEANS PEACE SAANTI KHABIS KI BACHHI ABHI TU ISLAM KO DEKHA HI KAHA H , JIS DIN DEKH LEGI US DIN EMAN LE AAYEGI.

      ALLAH TUJH EMAN KI NASIYAT ATA FARMAE

      • sudhakar shrma October 14, 2011 at 8:09 am #

        allah ne kitna raham farmaya hai yeh kasmiri rulers aur auranzeb se puchna aur tu hindu tha tere poorwaz phatoo the isiliye tu muslim hai imaan sab bakbas hai

    • Fatimah October 21, 2011 at 7:23 am #

      what are your views regarding Hindutva terror?????what about gujrat riots where the women, girls,innocent children n the unborn ..none was spared by swords by your men…Shame on u guys…
      Islam never justifies killing… Quran says that killing of one innocent men is like murder of entire humanity…

      about sacrifice… dosent ur religion asks for BALI of animals in front of idols…

    • Fatimah October 21, 2011 at 7:30 am #

      @ Sudhakar Sharma:

      Allah Ne itna raham kiya hai..that Islam is the second largest religion in the world and still the fastest growing religion of the world …
      The Only true monotheism …is Islam…True Religion of Mankind…From Adam To Muhammad (SAW)….As far as conversion is there…Islam dates back to the first MAn on Earth Adam Alaihessalam…Every child born is a muslim .. it is the upbringing that makes him a hindu, Jew , Buddhist Etc… Thats Why converted muslims are called reverts non converts….

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: